Motivational story in hindi भविष्य के बारे में सोचो।

               Motivational story

Motivational story in Hindi दोस्तो हम आपके साथ शेयर कर रहे है

                  भविष्य के बारे में सोचो

ek कॉलेज स्टूडेंट था जिसका name था लोकेश। वह बहुत चुपचाप सा रहता था। किसी से ज्यादा bat नही करता था इसलिए उसका कोई दोस्त भी नही था।

वह हमेशा कुछ परेशान सा रहता था par लोग उस पर ज्यादा ध्यान nahi देते थे। ek दिन वह क्लास में पढ़ रहा था उसे गुमसुम बैठे देख kar सर उसके पास आये और क्लास के bad मिलने को कहा। क्लास खत्म होते ही लोकेश सर के रूम में पहुचा।
Lokesh मै देखता हूँ कि तुम अक्सर बड़े गुमसुम और शांत बेटे रहते हो, ना किसी से Bat करते हो और ना ही किसी चीज में रुचि दिखाते Ho इसका क्या कारण है? Sir ने पूछा। Lokesh बोला," सर, मेरा Past बहुत ही खराब रहा है, मेरी लाइफ में कुछ बड़ी ही दुखदायी घटनाएं हुई है, मै उन्ही के बारे में सोचकर परेशान रहता हूँ...., सर ने ध्यान से Lokesh की बातें सुनी और उसे संडे को घर पे बुलाया।

Lokesh नियत समय पर सर के Ghar पहुँच गया।
"लोकेश Kiya तुम शिकंजी पीना पसंद करोगे,?"सर ने पूछा। "जी।, लोकेश ने कहा।
सर ने शिकंजी बनाते बक्त जानबूझ कर नमक अधिक डाल दिया। और Cheeni की मात्रा कम ही रखी।
शिकंजी Ka एक घूँट पीते ही Lokesh ने अजीब सा मुंह बना लिया। सर ने पूछा," क्या हुआ तुम्हें ये पसंद नही आया क्या ?'' 'जी, वो इसमे नमक थोड़ा अधिक पड़ गया है....''लोकेश अपनी bat कह ही रहा था की Sir ने उसे बीच में ही रोकते हुए कहा, "ओफ़-ओ, कोई बात नही में इसे फेंक देता हूँ, अब ये किसी काम की नही...'' ऐसा कह Kar सर गिलास उठा ही रहे थे कि लोकेश ने उन्हें रोकते हुए कहा, ''सर नमक थोड़ा सा अधिक Ho गया है तो क्या, हम इसमें थोड़ी Or चीनी मिला दें तो ये बिलकुल ठीक हो जाएगा।"

''बिलकुल ठीक लोकेश यही तो मै तुमसे सुनना चाहता था...अब इस स्थिति Ko तुम अपनी लाइफ से कैम्पेयर करो , शिकंजी में नमक Ka ज्यादा होना लाइफ में Hamare साथ हुए बैड एक्सपीरियंस की तरह है..और अब इस बात को समझो, शिकंजी का स्वाद ठीक करने के लिए हम उसमें से नमक नही निकाल सकते, इसी तरह हम अपने Sath हो चुकी दुखद घटनाओं Ko अपने जीवन से Alag नही कर सकते, Par जिस तरह हम चीनी डाल कर शिकंजी का स्वाद ठीक कर सकते है

उसी तरह पुरानी कड़वाहट मिटाने Ke लिए लाइफ Me भी अच्छे अनुभवो की मिठास घोलनी पड़ती है । यदि तुम Apne भूत का ही रोना रोते रहोगे Tho न ही तुम्हारा वर्तमान सही Hoga और न ही भविष्य उज्जवल हो पायेगा । ,''सर ने अपनी बात पूरी की।

लोकेश को अपनी गलती ka अहसास हो चुका था , उसने मन ही मन ek बार फिर अपने जीवन को नई दिशा देने का प्रण लिया।

Motivational story in hindi पोस्ट आपको कैसी लगी इस बारे में हमे अपने विचार नीचे comment के माध्यम से अवश्य दे।
Motivational story in hindi भविष्य के बारे में सोचो। Motivational story in hindi भविष्य के बारे में सोचो। Reviewed by Indrajeet Saini on June 20, 2018 Rating: 5

1 comment:

Thank you for comment

Powered by Blogger.